बुलडोजर कार्रवाई पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट ने किया इनकार

10 अगस्त को होगी अगली सुनवाई

बुलडोजर कार्रवाई पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट ने किया इनकार
बुलडोजर कार्रवाई पर रोक लगाने से सुप्रीम कोर्ट ने किया इनकार

 उत्तर प्रदेश में बुलडोजर की कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट ने फिलहाल रोक लगाने से इनकार कर दिया है. मामले में अगली सुनवाई 10 अगस्त को होगी. दरअसल, जमीयत उलेमा ए हिंद की याचिका पर सुनवाई हुई थी जिसमें बुलडोजर की कार्रवाई पर रोक लगाने की मांग की गई थी.

यह भी पढ़ें: OPINION: संघ और मुसलमानों में संवाद से दुखी होने वाले कौन?

सुप्रीम कोर्ट विभिन्न राज्यों में बुलडोजर कार्रवाई पर 10 अगस्त को सुनवाई करेगा. जस्टिस बीआर गवई की अध्यक्षता वाली बेंच ने बुधवार को कहा कि दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और गुजरात में हो रही कार्रवाई पर एकसाथ सुनवाई होगी.

यह भी पढ़ें: जेपी नड्डा की जगह कौन बनेगा अध्यक्ष? जनवरी में खत्म हो रहा है कार्यकाल

सुनवाई के दौरान जमीयत-उलेमा-ए-हिंद की ओर से वकील दुष्यंत दवे ने कहा कि बुलडोजर की कार्रवाई निष्पक्ष नहीं है. एक समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है. इस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि कानूनी कार्रवाई को बेवजह सनसनीखेज बनाया जा रहा है. उत्तर प्रदेश सरकार ने बुलडोजर कार्रवाई पर सुप्रीम कोर्ट में जवाब दाखिल कर कहा कि ये कार्रवाई कानून के तहत की गई है. जमीयत की याचिका अवैध निर्माण को बचाने की कोशिश है. उत्तर प्रदेश सरकार ने जमीयत की याचिका को खारिज करने की मांग की है.

यह भी पढ़ें: लंपी वायरस के कहर से कराहता गौवंश

राज्य सरकार ने कहा है कि सहारनपुर में दो घरों का उतना निर्माण हटाया गया, जो सरकारी जमीन पर था. सहारनपुर में नाबालिग की गिरफ्तारी का दावा झूठा है. प्रयागराज का मामला हाई कोर्ट में है. इस मामले में जमीयत-उलेमा-हिंद ने सुप्रीम कोर्ट में जवाब दाखिल कर कहा है कि इसे रूटीन कार्रवाई बताना गलत है. जमीयत ने कहा है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री खुद सबक सिखाने के लिए बुलडोजर कार्रवाई का बयान देते हैं. जमीयत ने कहा है कि प्रयागराज में तोड़ा गया मकान जावेद की पत्नी के नाम था. सहारनपुर में बिना नोटिस के मकान तोड़ा, क्योंकि उसके किराएदार के बेटे पर दंगे का आरोप था.

इस मामले में राज्य सरकार ने हलफनामा दाखिल कर जमीयत पर मामले को गलत रंग देने का आरोप लगाया है. राज्य सरकार ने कहा है कि जिन पर कार्रवाई हुई उन्हें तोडऩे का आदेश कई महीने पहले जारी हुआ था. खुद हटा लेने के लिए काफी समय दिया गया था. बुलडोजर की कार्रवाई से दंगे का कोई संबंध नहीं. उसका मुकदमा अलग है.

 

About The Author

Bhartiya Basti Picture

Bhartiya Basti 

गूगल न्यूज़ पर करें फॉलो

ताजा खबरें

UP News: दो वाहनों के टक्कर में दंपति घायल
Gorakhpur News: आबकारी टीम ने छापेमारी कर बरामद की 129 लीटर कच्ची शराब
NASA Dart: अंतरिक्ष में 22500 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से एस्टेरॉयड से टकराया नासा का स्पेसक्राफ्ट
संयुक्त राष्ट्र प्रमुख की अपील, परमाणु खतरा खत्म करने के लिए हर संभव प्रयास करें
फिलीस्तीनी पीएम की इजरायली नेता से अपील, दो-राज्य समाधान के लिए समर्थन साबित करें
संयुक्त राष्ट्र महासभा के आम बहस सत्र का समापन
फिलीपींस में तूफान 'नोरू' ने आठ लोगों की जान ली
शेखावाटी किंग्स ने रोमांचक मुकाबले में मेवाड़ मॉन्क्स को दो अंक से दी मात
स्वीडन अंडर-17 महिलाओं ने भारत को 3-1 से हराया
शियाई अंडर-16 टूर्नामेंट में सिर्फ भारतीय खिलाड़ी