Mangal Pandey News: आजादी की लड़ाई में मंगल पांडेय का योगदान : डॉ. सुनीता

Mangal Pandey News: आजादी की लड़ाई में मंगल पांडेय का योगदान : डॉ. सुनीता
mangal pandey

कपिलवस्तु. सिद्धार्थ विश्वविद्यालय कपिलवस्तु के इतिहास विभाग की तरफ से शहीद मंगल पांडेय की जयंती पर मंगलवार को गोष्ठी का आयोजन किया गया. डॉ. सुनीता त्रिपाठी ने कहा कि आजादी की लड़ाई 1857 में ही प्रारंभ हो गई थी, जिसमें अमर शहीद मंगल पांडेय का योगदान अविस्मरणीय है.

उन्होंने कहा कि शहीद मंगल पांडेय का बलिदान युवा पीढ़ी के लिए आज भी प्रेरणास्रोत है. इतिहास विभाग के अध्यक्ष डॉ. सच्चिदानंद चौबे ने कहा कि अमर शहीद मंगल पांडेय प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के अग्रदूत थे, वे राष्ट्र के लिए अपने प्राणों की आहुति देकर भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के भविष्य की दिशा देने वालो में अग्रणीय हैं.

हिंदी विभाग की सहायक आचार्य डॉ. रेनू त्रिपाठी ने कहा कि मंगल पांडेय प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के जननायक थे, वह अपने प्राणों की आहुति देश हित में समर्पित कर दिया. कला संकाय के अध्यक्ष प्रो. हरीश कुमार शर्मा ने कहा कि अमर शहीद मंगल पांडेय अपने जीवन के इतने कम समय में देश हित में इतना बड़ा त्याग और बलिदान दिया. यह सदैव चिर स्मरणीय होगा.

राजनीति विभाग की सहायक आचार्य डॉ. सरिता सिंह ने कहा कि युवाओं को शहीद मंगल पांडेय से देशभक्ति की प्रेरणा लेनी चाहिए. इस दौरान डॉ. यशवंत यादव, अनुज उपाध्याय, रीमा जायसवाल, संघमित्रा राव, साधना कसौधन, स्नेहलता पांडेय, संध्या साहू उपस्थित रहे.

 

यह भी पढ़ें: Raibareli में स्कूल में रोटी बनाती छात्राओं का वीडियो वायरल

About The Author

Bhartiya Basti Picture

Bhartiya Basti 

गूगल न्यूज़ पर करें फॉलो

ताजा खबरें

पसीने की बदबू दूर करने का काम करता है डियोड्रेंट, इन तरीकों से लंबे समय तक रहेगी महक
महिलाओं को चक्कर आने के पीछे हो सकते है ये 10 कारण, जानें और बरतें सावधानी
ओपनिंग वीकेंड पर ही नेटफ्लिक्स पर एक करोड़ घंटे से ज्यादा देखी गई डार्लिंग्स
तेहरान ने मुझे बिल्कुल अलग अवतार पेश करने का मौका दिया: मानुषी छिल्लर
रुबीना दिलैक को माधुरी दीक्षित के सामने डांस करना थोड़ा मुश्किल लगता है
रणबीर कपूर की ब्रह्मास्त्र में वानरास्त्रे की किरदार निभाएंगे शाहरुख खान, फर्स्ट लुक हुआ लीक
Azadi Ka Amrit Mahotsav 2022 : कप्तानंगज में बच्चों ने बनाई मानव श्रृंखला, दिया ये संदेश
Azadi Ka Amrit Mahotsav : 5 दिनों तक बांसी में रहे चंद्रशेखर आजाद, जानें उस दौरान क्या-क्या हुआ?
Azadi Ka Amrit Mahotsav: कप्तानगंज के स्कूल में बच्चों ने बनाई मानव श्रृंखला
Azadi Ka Amrit Mahotsav: बस्ती की धरती के अमर क्रान्तिकारी पं सीताराम शुक्ल