Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में विपक्ष के लिए शुभ नहीं हो रहा जून-जुलाई! 1 साल में दो बार बदली तस्वीर

NCP Political Crisis: अजित पवार बने डिप्टी सीएम, प्रफुल्ल पटेल के केंद्रीय मंत्री बनने की चर्चा तेज

Maharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में विपक्ष के लिए शुभ नहीं हो रहा जून-जुलाई! 1 साल में दो बार बदली तस्वीर
Maharashtra politics

Maharashtra Politics Crisis: महाराष्ट्र की राजनीति में बीते एक साल में जो हुआ, उसकी शायद ही कभी किसी ने कल्पना की हो. बीते साल इसी जून जुलाई के महीने में शिवसेना टूटी और उसके दो फाड़ हो गए. इस साल महीना भी जून जुलाई का ही है लेकिन दल और दिल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के टूट गए. मई महीने में जहां दावा किए जा रहे थे कि एनसीपी, संगठानात्मक बदलाव से गुजरेगी और चीफ शरद पवार के इस्तीफा देने और वापस लेने के बीच जो इमोशनल ड्रामा चला, उसकी राजनीति में शायद ही कोई मिसाल मिलती हो.

जो लोग तब रो रहे थे और भावुक थे, वो आज मंत्री पद की शपथ ले चुके हैं. जिन्होंने कहा था कि हम शरद पवार के बिना एनसीपी चला सकते, वो आज एनसीपी लेकर ही किसी और के साथ चले गए. महाराष्ट्र की राजनीति में विपक्ष के लिए बीते 2 साल में जून-जुलाई का महीना शुभ साबित नहीं हो रहा है.

यह भी पढ़ें: Lord Hanuman Aarti: हनुमान जी की आरती, अर्थ सहित, देखें और पढ़ें यहां

यह भी पढ़ें: PM Kisan Scheme: इस तारीख को आने वाला है PM क‍िसान न‍िध‍ि का पैसा,अब आएंगे 4 हजार रूपए

शिवसेना और एनसीपी के टूटने के बाद सवाल तो कई हैं, लेकिन जवाब देने वाले वही घिसा पिटा बयान पेश कर रहे हैं. बात बीते साल की शिवसेना में हुई बगावत की करें तो दावा किया जा रहा था कि बागी, कांग्रेस और एनसीपी के मंत्रियों से परेशान थे. उनका दावा था कि शिवसेना के एजेंडे और जनता तक विकास पहुंचाने में महाविकास अघाड़ी के ये दो अहम घटक, बाधा बन रहे थे. दावा यहां तक था कि शिवसेना के नेताओं और कार्यकर्ताओं की सरकार में सुनी नहीं जा रही है. इसलिए उन्हें बागी रुख अख्तियार करना पड़ रहा है. अब जबकि एनसीपी का बड़ा हिस्सा, अजित पवार की अगुवाई में बीजेपी-शिवसेना (शिंदे गुट) की सरकार में शामिल हो चुका है, तब यह देखना दिलचस्प होगा कि बागी शिवसैनिकों का रुख अब क्या होगा.

यह भी पढ़ें: Lok Sabha Elections: लोकसभा चुनाव में इन तीन बड़े राज्यों से बीजेपी को मिलेगी 52 सीटें! सर्वे में आए चौंकाने वाले आंकड़े

शिवसेना टूटी तो एनसीपी के नेताओं और समर्थकों ने दावा किया कि उनके 'चाणक्य' शरद पवार के आगे भारतीय जनता पार्टी कहीं नहीं टिकेगी और उनकी पार्टी में टूट की आशंका कहीं दूर-दूर तक नहीं है. इतना ही नहीं मई महीने में जब शरद पवार ने अपने इस्तीफे की पेशकश की तो भी यह कहा गया कि ये एनसीपी चीफ, विपक्ष और बीजेपी को अपनी राजनीतिक हैसियत से परिचित कराना चाहते थे.

क्योंकि यही वह समय था, जब अजित पवार समेत कई नेताओं के बीजेपी में जाने की आशंकाएं, संभावनाओं में तब्दील होने लगीं थी. शरद पवार को लगा कि वह अपने इस्तीफे और उसके बाद हुए इमोशनल ड्रामे से पार्टी की डूबती नैया को बचा लेंगे. मगर ये हो न सका और अब ये आलम है कि...

यह भी पढ़ें: PM Kisan Scheme: इस तारीख को आने वाला है PM क‍िसान न‍िध‍ि का पैसा,अब आएंगे 4 हजार रूपए

मौजूदा राजनीतिक समय में महाराष्ट्र शायद इकलौता राज्य होगा, जहां दो प्रमुख दलों के अब दो गुट हैं. शिवसेना पहले ही उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे में बंट चुकी है, तो अब एनसीपी में भी चाचा और भतीजे के अलग-अलग दो गुट हो चुके हैं. इन गुटों में भी अब सबसे बड़ा सवाल ये उठ रहा है कि क्या महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, आगामी लोकसभा चुनाव या महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव तक सीएम बने रहेंगे? क्योंकि अजित पवार जिस ताकत के साथ, बीजेपी के साथ आए हैं, उससे शिंदे पर सत्तारूढ़ दल की निर्भरता थोड़ी ही सही लेकिन कम हो गई है.

यह भी पढ़ें: PM Kisan Scheme: इस तारीख को आने वाला है PM क‍िसान न‍िध‍ि का पैसा,अब आएंगे 4 हजार रूपए

माना जाता है कि अजित पावर, सरकार में भी बड़े पोर्टफोलियो मांग सकते हैं जिससे शिंदे और बीजेपी के बीच खटास बढ़ने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है. इसके अलावा शिवसेना के उद्धव गुट के नेता संजय राउत ने दावा किया है कि अब जल्द ही अजित पवार नए सीएम होंगे और एकनाथ शिंदे से बीजेपी पीछा छुड़ा लेगी. राउत के इस बया पर शिंदे गुट और बीजेपी दोनों ने चुप्पी साध रखी है.

1 साल के भीतर ही बड़े राजनीतिक उथल-पुथल देख चुके महाराष्ट्र में आगे क्या होगा, यह तो वक्त ही बताएगा लेकिन जिस तरह से राजनीति करवट बदल रही है, किसी भी दावे, आशंका और संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है. सरकार बनने और बिगड़ने में भूमिका नेताओं की होती है लेकिन मतदान, जनता का होता है. जनता का मूड क्या है? ये अब कोई सर्वे तो ढंग से बताने से रहा, इसलिए चुनावों का इंतजार करना ही बेहतर है.

On
Follow Us On Google News

About The Author

Bhartiya Basti Picture

Bhartiya Basti 

गूगल न्यूज़ पर करें फॉलो

ताजा खबरें

OPS In UP: शिक्षक संघ की बैठक में बनी महाहड़ताल की रणनीति
Lok Sabha Election 2024: गांव चलो अभियान में पूरी ताकत से जुड़ेंगे भाजपा कार्यकर्ता- यशकांत सिंह
Lok Sabha Election 2024 के लिए राम प्रसाद चौधरी ने बीजेपी पर बोला बड़ा हमला, PDA पंचायत में उठाए सवाल
Ram Prasad Chaudhary: 5 बार विधायक, 1 बार के सांसद, जानें- कैसा रहा है राम प्रसाद चौधरी का राजनीतिक सफर
Basti Lok Sabha Election: तीसरी बार लोकसभा के चुनावी समर में उतरेंगे राम प्रसाद चौधरी, राम मंदिर लहर में बीजेपी को दे पाएंगे मात?
Basti Lok Sabha Election 2024: बस्ती से सपा ने उतारा उम्मीदवार, जानें- किसे मिला टिकट, कांग्रेस को लगा झटका
Bhanpur Basti News: राममय हुआ भानपुर, उकड़ा हनुमान मंदिर पर उमड़ा जनसैलाब
Ram Lala के दर्शन को बढ़ी भीड़, अयोध्या प्रशासन अलर्ट, सीएम भी पहुंचे राम मंदिर, दिए निर्देश
Bharat Jodo Nyay Yatra पर राहुल गांधी, असम में विवाद, अयोध्या में कांग्रेसी भड़के
नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयन्ती ‘पराक्रम दिवस’ का आयोजन, सीएम योगी ने दी श्रद्धांजलि