Gonda और बस्ती की सीमा पर मौजूद ये मंदिर क्यों बना हुआ है चर्चा का विषय? जानें पूरा मामला

Gonda और बस्ती की सीमा पर मौजूद ये मंदिर क्यों बना हुआ है चर्चा का विषय? जानें पूरा मामला
Sarriya Sammai Mata Mandir

शिवदयालगंज (गोण्डा). उत्तर प्रदेश स्थित गोंडा के सरायहर्रा गांव में गोंडा और बस्ती जनपद की सीमा पर स्थित सरैया सम्मय माता का मंदिर चर्चा का विषय बना हुआ है. यह मंदिर सम्मय माता को समर्पित है. सम्मय माता को दुर्गा जी का अंश माना जाता है. मंदिर में क्षेत्र के साथ-साथ उत्तर प्रदेश के अन्य जनपदों और कई प्रदेशों से भक्त भारी संख्या में अपने मन में दुख-तकलीफों से निजात पाने, स्वास्थ्य, शांति, पुत्र लाभ, ऐश्वर्य, सुख-समृद्धि की कामना लेकर आते हैं.

इस मंदिर में जाकर साफ और सच्चे मन से जो भी भक्त सम्मय माता के समक्ष अपनी इच्छा रखता है उस भक्त की वह मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है. ऐसा मानना इस मंदिर में आने वाले भक्तों का है. वैसे तो दूरदराज से हजारों की संख्या संख्या में प्रतिदन भक्त माता के दर्शनों के लिए आते हैं लेकिन मंगलवार को यहां भक्तों का मेला लगा रहता है.

मंदिर के मुख्य पुजारी महेश दास ने बताया कि जिन भक्तों की मनोकामना सम्मय माता पूरी कर देती हैं वो भक्त मंगलवार के दिन मंदिर में जरूर आते हैं और विधिवत पूजा-अर्चना करते हुए यथाशक्ति लंगर का आयोजन भी करते हैं. मंदिर की तरफ से भी भंडारा चलता रहता है. सम्मय माता मंदिर की देखभाल सहायक पुजारी राजू दास, लौटू दास, राम लौट दास महेश गुप्ता, राजकुमार सिंह मंदिर की देखभाल करते हैं.

About The Author

Bhartiya Basti Picture

Bhartiya Basti 

गूगल न्यूज़ पर करें फॉलो

ताजा खबरें

पसीने की बदबू दूर करने का काम करता है डियोड्रेंट, इन तरीकों से लंबे समय तक रहेगी महक
महिलाओं को चक्कर आने के पीछे हो सकते है ये 10 कारण, जानें और बरतें सावधानी
ओपनिंग वीकेंड पर ही नेटफ्लिक्स पर एक करोड़ घंटे से ज्यादा देखी गई डार्लिंग्स
तेहरान ने मुझे बिल्कुल अलग अवतार पेश करने का मौका दिया: मानुषी छिल्लर
रुबीना दिलैक को माधुरी दीक्षित के सामने डांस करना थोड़ा मुश्किल लगता है
रणबीर कपूर की ब्रह्मास्त्र में वानरास्त्रे की किरदार निभाएंगे शाहरुख खान, फर्स्ट लुक हुआ लीक
Azadi Ka Amrit Mahotsav 2022 : कप्तानंगज में बच्चों ने बनाई मानव श्रृंखला, दिया ये संदेश
Azadi Ka Amrit Mahotsav : 5 दिनों तक बांसी में रहे चंद्रशेखर आजाद, जानें उस दौरान क्या-क्या हुआ?
Azadi Ka Amrit Mahotsav: कप्तानगंज के स्कूल में बच्चों ने बनाई मानव श्रृंखला
Azadi Ka Amrit Mahotsav: बस्ती की धरती के अमर क्रान्तिकारी पं सीताराम शुक्ल