मोदी सरकार बेचेगी सस्ता सोना, सोमवार से शुरू होगी बिक्री

मोदी सरकार बेचेगी सस्ता सोना, सोमवार से शुरू होगी बिक्री
gold and silver

नई दिल्ली  कोविड महामारी के प्रकोप वाले वर्षों में सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश के प्रति सबसे अधिक आकर्षण देखने को मिला, और निवेशकों द्वारा सुरक्षित विकल्प की तलाश के चलते इस योजना में निवेश तेजी से बढ़ा. वर्ष 2020-21 और 2021-22 के दौरान शेयर बाजार में भारी उतार-चढ़ाव के कारण भी गोल्ड बॉन्ड के प्रति झुकाव बढ़ा. इन दो वर्षों में इन बांड की जितनी बिक्री हुई, वह नवंबर, 2015 में इस योजना की शुरुआत से हुई कुल बिक्री का 75 प्रतिशत है.  

यह भी पढ़ें: गांधी परिवार भ्रष्टाचार भी करेंगे, खुद को कानून के ऊपर भी मानेंगे  : भाजपा

प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री 16-17 जून को धर्मशाला में मुख्य सचिवों के पहले राष्ट्रीय सम्मेलन की अध्यक्षता करेंगे

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (एसजीबी) की अगली किस्त की बिक्री सोमवार से शुरू होकर पांच दिनों तक चलेगी. इस किस्त के लिए सोने का निर्गम मूल्य 5,091 रुपये प्रति ग्राम तय किया गया है. यह चालू वित्त वर्ष का पहला निर्गम होगा. सरकार ने ऑनलाइन आवेदन करने वाले निवेशकों को 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट की पेशकश की है और आवेदकों को इस छूट का लाभ लेने के लिए डिजिटल माध्यम से भुगतान करना होगा.

यह भी पढ़ें: Mahatma Gandhi Death Anniversary: जातिवाद के हमेशा खिलाफ रहे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी

रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक, नवंबर, 2015 में इस योजना की शुरुआत से अबतक कुल 38,693 करोड़ रुपये (90 टन सोना) जुटाए गए हैं. वित्त वर्ष 2021-22 और 2020-21 में कुल 29,040 करोड़ रुपये की राशि जुटाई गई, जो कुल जुटाई गई राशि का लगभग 75 प्रतिशत है. आरबीआई ने 2021-22 के दौरान एसजीबी की 10 किस्तें जारी कर 12,991 करोड़ रुपये (27 टन) की कुल राशि जुटाई. केंद्रीय बैंक ने 2020-21 में एसजीबी की 12 किस्तें जारी कर 16,049 करोड़ रुपये (32.35 टन) की कुल राशि जुटाई.

मुंबई स्थित निवेश सलाहकार फर्म कैरोस कैपिटल के संस्थापक और प्रबंध निदेशक ऋषद मानेकिया ने कहा कि एसजीबी को भौतिक सोना रखने के विकल्प के रूप में देखा जा सकता है और इसमें निवेश करके प्रतिफल भी मिलता है. इसके सरकार द्वारा समर्थित होने और सुरक्षा की दृष्टि से यह फायदेमंद विकल्प है. केंद्रीय बैंक दरअसल भारत सरकार की तरफ से बॉन्ड जारी करता है. ये निवासी व्यक्तियों, अविभाजित हिंदू परिवार (एचयूएफ), न्यासों, विश्वविद्यालयों और धर्मार्थ संस्थाओं को ही बेचे जा सकते है. आरबीआई ने कहा, एसजीबी की अवधि आठ वर्ष के लिए होगी, जिसमें 5वें वर्ष के बाद इसे समय पूर्व भुनाया जा सकता है. इस विकल्प का उपयोग उस तिथि पर किया जा सकता जिस पर ब्याज देय है.

About The Author

Bhartiya Basti Picture

Bhartiya Basti 

गूगल न्यूज़ पर करें फॉलो

ताजा खबरें

इंग्लैंड में शतक हमेशा विशेष होता है, आत्मविश्वास बढ़ाने का काम करता है : जडेजा
बेड खरीदते से पहले इन बातों पर दें ध्यान, होगा सही चयन
संगीत सुनने से सेहत को मिलते हैं चौकाने वाले फायदे
जितेंद्र कुमार ने जादूगर के लिए सीखा असली जादू
शिक्षा में संस्कृत अनिवार्य करें
बारूद के ढेर पर अगरबत्ती सुलगाती राजनीति
Basti News: जगन्नाथ,रघुनाथ रामपूरन ने मेडिकल कालेज को देह दान करने का पंजीकरण कराया
संजय प्रताप जायसवाल की शिकायत पर बस्ती में सालों से जमे अफसरों का हुआ ट्रांसफर, जानें पूरा मामला
बस्ती में बिना नक्शा पास कराए घर बनाना पड़ा महंगा, DM के निर्देश पर BDA ने लिया कड़ा एक्शन
सुमेर से शुरू मकडज़ाल !