Indian Railway News: जिस रेलवे स्टेशन से सफर करते थे नेताजी और महात्मा गांधी, वहां नहीं रुकती कोई ट्रेन! जानें- क्यों?

Indian Railway News: जिस रेलवे स्टेशन से सफर करते थे नेताजी और महात्मा गांधी, वहां नहीं रुकती कोई ट्रेन! जानें- क्यों?
singhabad railway station

Indian Railway अपनी सेवाओं और यात्री सुविधाओं के लिए जाना जाती है. हालांकि कई मौकों पर सारा सिस्टम फेल हो जाता है और वंदे भारत सरीखी वीआईपी ट्रेन में भी दावों और वादों के विपरीत बे टिकट लोग सवार हो जाते हैं. मजबूरी उनकी भी होती है कि आखिर वो क्या करें? इन सब सुविधाओं और असुविधाओं के बीच आइए आज हम आपको भारत के उस रेलवे स्टेशन के बारे में बताते हैं जहां सवारी गाड़ी और मालगाड़ी, दोनों कम जाती हैं.

भारत-बांग्लादेश सीमा पर बसा सिंघाबाद रेलवे स्टेशन पश्चिम बंगाल के मालदा जिले के हबीबपुर क्षेत्र में स्थित है. सिंघाबाद रेलगाड़ियों के कम ठहराव के लिए जाना जाता है. ब्रिटिश काल के दौरान स्थापित सिंघाबाद रेलवे स्टेशन नेता जी सुभाष चंद्र बोस और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी सरीखे प्रतिष्ठित व्यक्तियों के प्रवास का गवाह रहा है. यह कोलकाता और ढाका के बीच एक महत्वपूर्ण संपर्क का जरिया था. आजादी के पहले यहां मालगाड़ी और यात्री गाड़ी, दोनों का ठहराव होता था.

यह भी पढ़ें: क्या सच में इस साल के अंत में बंद कर दिया जाएगा नई दिल्ली रेलवे स्टेशन? अब रेलवे ने कर दिया बड़ा दावा

1947 के बाद बदली स्थिति!
भारत स्वतंत्रता मिलने के बाद सिंघाबाद की भूमिका में भी बदलाव आया. साल 1971 में बांग्लादेश के निर्माण और उसके बाद के जियो पॉलिटिकल बदलावों के कारण 1978 में एक समझौता हुआ, जिसके तहत सिंघाबाद से मालगाड़ियों के संचालन की अनुमति दी गई. साल 2011 में एक संशोधन ने इस भूमिका का विस्तार किया, जिससे नेपाल से आने-जाने वाली ट्रेनों के लिए अनुमति मिली. ऐसे में सिंघाबाद मालगाड़ी के लिए एक महत्वपूर्ण  बिंदु बन गया, जिसने क्षेत्र के व्यापार और वाणिज्य में इसके रणनीतिक महत्व को उजागर किया.

यह भी पढ़ें: Income tax changes का आपको होगा फायदा या नहीं? यहां एक क्लिक में जानें सब कुछ

आज सिंघाबाद अपने अतीत से बिलकुल अलग दिखाई देता है. प्लेटफार्म सुनसान हैं और टिकट काउंटर बंद हैं. मुट्ठी भर कर्मचारी ही स्टेशन पर काम करते दिखते हैं. फिलहाल यह रेलवे स्टेशन यात्री सेवाओं के लिए उपयोग में नहीं है लेकिन सिंघाबाद का रणनीतिक स्थान संभावित रूप से इसे भविष्य के रेल विकास के लिए एक केन्द्र बिन्दु बना सकता है अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और पड़ोसी देशों के साथ संबंधों के संबंध में इसका महत्व कम नहीं है.

यह भी पढ़ें: Vande Bharat Sleeper: इन रूटों पे चलने जा रही स्लीपर वंदे भारत, सिर्फ ऐसी ही नहीं नॉन ऐसी के भी होंगे कोच!

On

Join Basti News WhatsApp

ताजा खबरें

यूपी में इस जिले के 300 गांवों में दो दिन नहीं आएगी बिजली, विभाग ने की ये अपील, खत्म हो जाएगी बड़ी दिक्कत
UP Ka Mausam: यूपी में गरज चमक के साथ हो सकती है बारिश!, जाने अपडेट
यूपी में इस रूट पर फोर लेन होगी रेलवे, जानें कब शुरू होगा काम
यूपी के बस्ती में घर में कई दिनों से बंद थे अजगर के 26 बच्चे, देखते ही पैरों तले खिसक गई ज़मीन
Income tax changes का आपको होगा फायदा या नहीं? यहां एक क्लिक में जानें सब कुछ
Mohit Yadav Case: मोहित यादव मामले में बड़ा अपडेट, सत्यम समेत पांच और गिरफ्तार
Mohit Yadav की मां और परिजनों से मिलने बस्ती आई सपा प्रमुख अखिलेश यादव की टीम, किया ये वादा
यूपी के बस्ती शहर के इन इलाकों में कल नहीं रहेगी बिजली, भर लें पानी, चार्ज कर लें फोन, लैपटॉप, मोबाइल, गाड़ी
यूपी के एक Express Way से दूसरे में जाने पर अब नहीं होगी मुश्किल, योगी सरकार ने बनाया खास प्लान
Uttar Pradesh Ka Mausam: यूपी के इन जिलों मे हो सकती है गरज चमक के साथ भारी बारिश